आपके हाथ में ही होगा मोबाइल और कोई कर देगा सिम कार्ड की अदला-बदली, ये है लूट का नया तरीका, इससे आपका बैंक अकाउंट हो सकता है खाली

0
97

तकनीकी विकास ने लोगों की जिंदगी आसान तो की है, लेकिन इसका दुरुपयोग भी जमकर किया जाता है। आपराधिक मानसिकता वाले लोग तकनीक के सहारे आपके साथ कई तरह के फ्रॉड कर सकते हैं। आजकल सिम कार्ड से जुड़े एक फ्रॉड के बारे में खबरें आ रही हैं। यह है सिम कार्ड स्वैपिंग। हाल ही में मुंबई के एक व्यापारी ने सिम कार्ड स्वैपिंग फ्रॉड में 1.86 करोड़ रुपए गंवा दिए। वह भी तब जब मोबाइल उसके हाथ में ही था। ऐसे में यह जान लेना बहुत जरूरी है कि सिम कार्ड स्वैपिंग क्या है और आप कैसे इससे बच सकते हैं।

क्या है सिम कार्ड स्वैपिंग?

किसी सिम कार्ड को बंद करके उसके स्थान पर दूसरा सिम कार्ड निकलवाने को सिम कार्ड स्वैपिंग कहा जाता है। जैसे कभी अगर आपका फोन खो जाए तो आप सिम गुम होने की रिपोर्ट लिखवाकर उस सिम को बंद करवा देते हैं और उसी नंबर की दूसरी सिम निकलवाते हैं। अगर आप पुराने नंबर पर नया सिम कार्ड लेते हैं तब भी यह प्रक्रिया होती है। यानी मौजूदा सिम कार्ड को नए सिम से बदलना ही सिम कार्ड स्वैपिंग है।

ऐसे होती है धोखाधड़ी

हैकर्स या धोखाधड़ी करने वाले लोग आपके फोन पर कॉल करते हैं और खुद को आपके सिम की कंपनी का कस्टमर एक्जीक्यूटिव बताते हैं। वे कोई बहाना बनाकर आपसे आपकी सिम का नंबर मांगते हैं, जैसे कि- नेटवर्क कमजोर होने के चलते वे आपके सिम को अपग्रेड करने का ऑफर दे रहे हैं या फिर आपके नंबर पर किसी खास प्लान का ऑफर आया है और आपको नई सिम खरीदनी पड़गी। ज्यादातर लोग इस बहकावे में आ जाते हैं और अपना सिम नंबर बता देते हैं। 20 अंकों वाला सिम नंबर बताने के बाद आपसे कहा जाता है कि आप नंबर को कंफर्म करने के लिए 1 दबाएं। जैसे ही आप 1 दबाते हैं, वैसे ही आपके नंबर पर खुद-ब-खुद नए सिम के लिए रिक्वेस्ट डाल दी जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here